वैलेंटाइन डे क्यों मनाया जाता है | वेलेंटाइन डे का इतिहास क्या है | Happy Valentines Day 2019


दोस्तों क्या आप जानते हैं वैलेंटाइन डे क्यों मनाया जाता है वैलेंटाइन डे मनाने के पीछे क्या कहानी है आखिर वेलेंटाइन डे का इतिहास क्या रहा होगा जो हम सब इसे मनाते हैं !

ऐसे तो हमारे भारत देश में बहुत से त्योहार मनाए जाते हैं हमारे भारत देश को पर्व और त्योहारों देश कहा जाए तो गलत नहीं होगा क्योंकि यहां दुनिया में सबसे ज्यादा त्योहार मनाए जाते हैं जैसे होली दीपावली ईद क्रिसमस रक्षाबंधन इत्यादि ।
इन सभी त्योहारो को मानने के पीछे इतिहास की सच्ची कहानियां जुड़ी हुई है जिनके कारण हम इन‌ त्योहारों को बड़ी धूमधाम से मनाते हैं सभी त्योहारो लोगों में खुशियां लेकर आते हैं !

प्रत्येक वर्ष फरवरी के महीने में एक ऐसा दिन भी आता हैं जिसे पूरी दुनिया प्यार का दिन मानकर मनाते हैं , यह प्यार का दिन 14  फरवरी को मनाया जाता है इस दिन को Valentine Day के नाम से मनाते हैं।

क्या आपको पता है कि Valentine Day को कयो मनाया जाता है ? Valentine Day को प्यार का दिन क्यों माना जाता है ? आखिर इस दिन ऐसा क्या हुआ होगा जो लोग आज भी इसे मनाते हैं , Valentine Day मनाने के पीछे क्या इतिहास रहा होगा इसे बहुत से सवाल है जो आपके दिमाग में जरुर उठते होंगे ।
आज हम इस Article में Valentine Day मनाने के पीछे की पुरी कहानी जानेंगे ।

Valentines Day क्यों मनाते हैं | वेलेंटाइन डे का इतिहास क्या है ?

वैलेंटाइन डे एक व्यक्ति के नाम पर रखा गया उस व्यक्ति का नाम Valentine था.
वैलेंटाइन डे की कहानी की शुरुआत शुरू से प्यार भरी नहीं है क्योंकि इस कहानी की शुरुआत होती है एक अत्याचारी राजा और  दयालु संत वेलेंटाइन के बीच हुई आपसी लड़ाई से  ।

रोमन की तीसरी सदी में एक अत्याचारी राजा हुआ करता था जिसका नाम Claudius था रोमन के इस राजा का यह मानना था कि जंग के मैदान में एक सिपाही एक शादीशुदा सिपाही की तुलना में ज्यादा प्रभावशाली होता है क्योंकि शादीशुदा सिपाही के मन में जंग के मैदान में हमेशा अपने परिवार की चिंता होती है कि अगर में इस जंग में मर गया तो मेरे परिवार का क्या होगा इसलिए उसका ध्यान से जग नहीं रहता और वो जंग के मैदान में प्रभावशाली नहीं होता है  जबकि एक बिना शादीशुदा सिपाही जंग के मैदान में ज्यादा प्रभावशाली होता है क्योंकि उसको जंग के मैदान में किसी कि चिंता नहीं होती है |

राजा की ऐसी सोच होने की वजह से राजा ने अपने राज्य में ऐलान कर दिया कि उसके राज्य का कोई भी सिपाही शादी नहीं करेगा अगर कोई इस आदेश का पालन नहीं करेगा तो उसको कड़ी सजा दी जाएगी |

राजा के इस फैसले से सभी सिपाही बहुत दुखी थे पर सजा के डर से कोई भी राजा के फैसले का उलंघन नहीं करते थे
लेकिन रोमन के सत Valentine को यह फैसला बिल्कुल मंजूर नहीं था इसलिए Valentine राजा से चोरी छिपे युवा सिपाहियों की मदद करने लगा जो भी सिपाही अपनी प्रेमिका से शादी करना चाहता था वह वेलेंटाइन के पास मदद के लिए जाता था और वेलेंटाइन उनकी शादी करवा देते थे इसी तरह वेलेंटाइन ने बहुत से सिपाहियों की चोरी छिपे शादीया करवा चूके थे और यह सिलसिला ज्यादा नहीं चल सका क्योंकि कहते हैं ना कि सच जयादा दिनों तक छुप नहीं सकता उसी तरह Valentine के चोरी छुपे शादीया करवाने का सच भी रोमन के राजा को पता चल गया ।
वेलेंटाइन ने राजा के आदेश के खिलाफ काम किया इसलिए राजा ने Valentine को मौत की सजा सुना दी और वेलेंटाइन को जैल के अन्दर बद कर दिया गया जैल में वेलेंटाइन अपनी मौत की तारीख़ का इन्तजार करने लगे ।

एक दिन जैल का जैलर वेलेंटाइन के पास आया जिसका नाम Asterius था . रोमन के लोगों का कहना था कि वेलेंटाइन के पास दिव्य शक्ति है जिससे वेलेंटाइन लोगों के किसी भी प्रकार के रोग दूर कर सकता है वेलेंटाइन कि दिव्य शक्ति के बारे में जेलर को भी पता था. इसलिए वो वेलेंटाइन के पास गया था क्योंकि जैलर कि एक अधी बेटी थी ।

जैलर अपनी बेटी की आंखों को ठीक करने के लिए वेलेंटाइन से प्राथना करने लगा . वेलेंटाइन एक दयालु संत था इसलिए वेलेंटाइन ने अपनी दिव्य शक्ति की मदद से जैलर कि बेटी की आखे ठीक कर दी ।

उस दिन के बाद से वेलेंटाइन और जेलर कि बेटी में गहरी दोस्ती हो गई और दोस्ती कब प्यार में बदल गई दोनों को पता ही नहीं चला ।
वैलेंटाइन को फांसी लगने वाली हैं यह सोच सोच कर जेलर की बेटी गहरे सदमे में थी और आखिर वो दिन आ ही गया जिस दिन वेलेंटाइन को फांसी दी जानी वाली थी ।

वेलेंटाइन को 14 फरवरी को फांसी दी गई  फांसी देने से पहले वेलेंटाइन ने जेलर से एक कलम और कागज मांगा उस कागज में वेलेंटाइन ने जेलर की बेटी को  अलविदा सदेश लिखा . कागज के पन्ने के आखिरी  में वेलेंटाइन ने लिखा   " तुम्हरा वेलेंटाइन " यही वो लफ्ज़ है जिसे लोग आज भी याद करते हैं ।

Valentine के इस बलिदान के वजह से 14 फ़रवरी को उनके नाम से रखा गया और इस दिन को पूरी दुनिया में सभी प्यार करने वाले लोग valentine को याद करते हैं और एक दुसरे के साथ प्यार बाँटते हैं. इस दिन को सभी प्यार करने वाल लोग अपने प्रेमी प्रेमिका को फुल, तोहफे और chocolates दे कर अपने प्यार का इजहार करते हैं।


दोस्तों अगर आपको हमारा यह लेख पसंद आया हो तो Comment करके हमें बताएं  | वेलेंटाइन डे की यह कहानी आपके दोस्तों के साथ भी शेयर करें

Thanks for read this article

Post a Comment

0 Comments